कोरोना संकट में घर पर कैसे करें गणपति विजर्सन?

.

गणपती बाप्पा मोरया!!!




दोस्तो गणपती बाप्पा को विदा करने का समय आ गया है, मतलब उनके विसर्जन का समय आ गया है #सेव नेचर #सेव एनवायरनमेंट #सेव वाटर कुछ इस तरह के फोटोग्राफ्स के साथ ट्रेंड में आ रहा है तो कई बार ऐसा लगता है की क्या हम अपने गणपति को इतने आदर से इतने सम्मान से स्वागत कर रहे हैं उन्हें हम इस तरह विदा करना चाहेंगे तो इसीलिए दोस्तों हम एक ऐसा सॉल्यूशन लेकर आए हैं जिसकी वजह से हम अपने गणपति बप्पा को पूरे आदर और सम्मान के साथ विदा कर सकते हैं और वह भी बिना किसी पॉल्यूशन के । आइए देखते हैं यह सलूशन क्या है ।
दोस्तों हर साल कई गणपति की मूर्तियां विसर्जित होती हैं सिर्फ महाराष्ट्र में और इनमें से कई सारी मूर्तियां बनाई जाती हैं प्लास्टर ऑफ पेरिस से क्योंकि प्लास्टर ऑफ पेरिस से बनने वाली मूर्तियां खूबसूरत दिखती हैं यह प्लास्टर ऑफ पेरिस होता है कैल्शियम सल्फेट CaSO4. 1/2 H2O और और यह कैलशियम सल्फेट पानी में इनसोल्युबल है यानी बहुत कम सॉल्युबल है तो जब आप कैलशियम सल्फेट यानी प्लास्टर ऑफ पेरिस से बनने वाली विसर्जित करते हो तो कुछ इस तरह का नजारा बन जाता है

तो इसी नजारे को अवॉइड करने के लिए पुणे मुंसिपल कॉरपोरेशन ने वैज्ञानिकों की मदद से एक सॉल्यूशन दिया।

प्रोफेसर अश्विनी कुमार नांगिया
डायरेक्टर सीएसआइआर -एनसीएल
सीएसआइआर-एनसीएल पार्टनरशिप विद पुणे मुंसिपल कॉरपोरेशन पीएमसी इस गोइंग टू प्रोवाइड इंफॉर्मेशन अबाउट अ प्रोसेस थ्रू विच प्लास्टर ऑफ पेरिस व्हिच इज कैल्शियम सल्फेट कैन बी कन्वर्टेड थ्रू अ वेरी सिंपल रिएक्शन इन ए बकेट आफ वॉटर।

और वह सॉल्यूशन है अमोनियम बाइकार्बोनेट यह कोई बहुत डरावना केमिकल नहीं है जो सोडियम बाइकार्बोनेट है बेकिंग सोडा जिसको आप केक बनाने के लिए इस्तेमाल करते हैं उसी का भाई है।

तो आपको क्या करना है एक बड़ा सा टंबलर या बाल्टी लेनी है, उसमें पानी लेना है, और उसमें उतना ही अमाउंट ऑफ अमोनियम बाइकार्बोनेट डालना है जितना आपके गणपति की मूर्ति का वजन है। अब यह जो अमोनियम बाइकार्बोनेट का सॉल्यूशन है। इसमें आप अपने गणपति जी का विसर्जन कर लीजिए। विदीन 36 आवर्स आपकी मूर्ति उसमें दिस्सोलव हो जाएगी। अभी यह अमोनियम बाइकार्बोनेट बहुत सस्ता सा केमिकल है। यह लगभग 20 रूपए/केजी के हिसाब से यह आपको मार्केट में मिल जाएगा।
अब यह जो पूरा सॉल्यूशन है इसमें नीचे मिलेगा आपको कैल्शियम कार्बोनेट मतलब जिससे बनती है चौक, मार्बल, यही है ताजमहल । इसको आप छान के निकाल दो , तो जो सॉल्यूशन बचता है वह है अमोनियम सल्फेट जोकि बहुत ही अच्छा फ़र्टिलाइज़र है आप अपने घर में प्लांट में, पौधों में, गार्डन में तो देखिए सॉल्यूशन का सॉल्यूशन, विदाउट एनी पॉल्यूशन ।

1893 में लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने एक सॉल्यूशन दिया था गणेश चतुर्थी का ब्रिटिश से लड़ने के लिए और आगे उसी परंपरा को ,उसी कल्चर को आज 2020 मे उस तरह से ढालना है ताकि हम लड़ सके एनवायरमेंटल पॉल्यूशन से ।
आई होप की आप भी गणपति बप्पा को उसी आस्था उसी सम्मान के साथ विदा करोगे और बोलोगे गणपति बप्पा मोरया, पुढच्या वर्षी लवकर या।

Leave a Reply